क्या नरेंद्र मोदी कोई अवतारी पुरूष हैं?

नरेन्द्र मोदी एक अवतारी पुरुष? आखिर कौन है नरेंद्र मोदी।

5 हजार वर्ष पूर्व दुनिया त्राहि-त्राहि करने लगी थी ।चारों तरफ असुर विचारधारा का बोलबाला था। वेद पाठ हवन यज्ञ सदाचरण की जगह मांस मदिरा सुरा सुंदरियों ने ले रखी थी। उस समय भगवान श्री कृष्ण का अवतरण हुआ। उनकी योजना अनुसार असुर विचारधारा से ग्रसित लोग आते जाते और समाप्त होते जाते थे। किंतु हम सभी ने किवदंती मानकर विश्वास नहीं किया। क्या ऐसा भी प्रभावशाली व्यक्तित्व हो सकता है ।किंतु नरेंद्र मोदी को देख, समझकर, विश्वास हो चला है। प्रकृति अपना संतुलन बनाने के लिए खेल खेलती रहती है। वह कौन सा खेल खेल जाए इसे बड़े से बड़ा योगी भी नहीं समझ सकता। किंतु अब जो भारतवासी महसूस कर रहे हैं उसे झुठलाया भी नहीं जा सकता।

2014 से युग परिवर्तन

2014 के बाद सभी राष्ट्रवादी हिंदुओं ने महसूस किया, अंधेरे का प्रचार करने वालों की साजिश दिन प्रतिदिन उजागर हो रही है, उनके प्रत्येक झूठ पर जनमानस की पैनी निगाहें हैं। आखिर इतनी राष्ट्रभक्ति हिंदुओं का मन में जगाई किसने। यदि सिर्फ मुख से बोलने पर राष्ट्रभक्ति जगाई जाती तो 700 वर्षों से राष्ट्रभक्ति जगाने का काम अनेक राष्ट्रवादी कर रहे हैं किंतु उसका असर 2014 के पहले तक क्यों नहीं हुआ। ऐसा क्या है इसमें जिस की आवाज सुनकर राष्ट्रवादीयों के मन प्रफुल्लित हो जाते हैं तथा राष्ट्र द्रोहियों की रूहे कांपने लगती हैं तथा बेचैन होने लगते हैं। पहला कदम नोटबंदी से ऐसा लग रहा था मोदी जी ने कुछ गलत किया किंतु 370 सी ए ए के बाद महसूस हुआ नोटबंदी का कदम पाकिस्तान को नसीहत देकर आयातित आतंकवाद को समाप्त करना था क्योंकि आयातित आतंकवाद को खत्म किए बगैर 370 सी, ए, ए, की कल्पना करना दुष्कर कार्य था। ऐसी योजना वही बना सकता है जो राम कृष्णा जैसा योगी हो। चाणक्य जैसा निपुण हो,। विवेकानंद जैसा राष्ट्रवादी हो। महाराणा प्रताप जैसा सीना हो। वीर शिवाजी जैसी चतुराई हो।।। जिसे परमपिता परमात्मा शिवानंद का आशीर्वाद हो।

फिर प्रश्न उठता है
आखिर कौन है इस शरीर के पीछे छुपी आत्मा। क्या इसे सिर्फ हाड मास का पुतला समझना चाहिए या मात्र भारत का प्रधानमंत्री। किंतु कुछ हटकर है। इसे क्या नाम दें समझना मुश्किल है। तय आपको करना है इस हुतात्मा को क्या नाम दिया जाय।कुछ भी नाम दें पर जन्मता है हजारों वर्षे एक बार। भरपूर अभिनंदन होना चाहिए।

शरद अग्रवाल

Leave a Comment

Your email address will not be published.